मन की मुरदे पूरी कर | Man Ki Muraden Poori Kar Maa Lyrics

Man Ki Muraden Poori Kar Maa Lyrics

मन की मुरदे पूरी कर माँ,
मन की मुरदे पूरी कर माँ ।
दर्शन करने को मैं तो आउंगी,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।।

तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा ।
हलवे का भोग मैं लगाउंगी,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।।

तू है टटी दान देदे, मुझको अपना जानकार,
तू है टटी दान देदे, मुझको अपना जानकार ।
भर दे मेरी झोली खाली दाग लगे ना तेरी शान पर
भर दे मेरी झोली खाली दाग लगे ना तेरी शान पर ।।

सवा रूपिया और नारियल मई तेरी भेट चढ़ौँगी ।
सवा रूपिया और नारियल मई तेरी भेट चढ़ौँगी ।।

दर्शन करने को मई तो अवँगी,
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा ।
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।।

छ्होटी छ्होटी कन्ययो को भोग लगओ भक्ति भाव से,
छ्होटी छ्होटी कन्ययो को भोग लगओ भक्ति भाव से ।
तेरा जाग्रता काराऔ मई तो मा बड़े चाव से,
तेरा जाग्रता काराऔ मई तो मा बड़े चाव से ।।

लाल ध्वजा ले कर के माता,
तेरे भवन पे लहरौंगी ।
लाल ध्वजा ले कर के माता,
तेरे भवन पे लहरौंगी ।।

मन की मुरदे पूरी कर माँ,
मन की मुरदे पूरी कर माँ ।
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
दर्शन करने को मई तो अवँगी ।।

महिमा तेरी बड़ी निराली पार ना कोई पाया है,
महिमा तेरी बड़ी निराली पार ना कोई पाया है ।
मैने सुना है ब्रह्मा विष्णु शिव ने तेरा गन गया है,
मेरी औकात क्या है तेरी मा बात क्या है ।।

मेरी औकात क्या है,
तेरी मा बात क्या है ।
कैसे मैं तुझे भुलाउंगी
दर्शन करने को मई तो अवँगी ।।

तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा ।
हलवे का भोग मई लगौंगी ।।

लाल चोला लाल चुनरी लाल ही तेरे लाल है,
लाल चोला लाल चुनरी लाल ही तेरे लाल है ।
तेरी जिसपे हो दया वो तो मालामाल है,
श्याम सुंदर और लक्खा लाल है तेरे ।।

उनको भी संग मई लौंगी,
मन की मुरदे पूरी कर माँ ।
मन की मुरदे पूरी कर माँ ।।

दर्शन करने को मई तो अवँगी ।
दर्शन करने को मई तो अवँगी ।।

मन की मुरदे पूरी कर माँ,
मन की मुरदे पूरी कर माँ ।
दर्शन करने को मैं तो आउंगी,
दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।।

तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा ।
हलवे का भोग मैं लगाउंगी,
हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।।

Leave a Comment