Kis Vidhi Vandan Karun Tiharo Aughardani

Kis Vidhi Vandan Karun Tiharo Aughardani

किस विधि वंदन करू तिहारो,
औघड़दानी त्रिपुरारी
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥

नयन तीन उपवीत भुजंगा,
शशि ललाट सोहे सिर गंगा
मुंड माल गल बिच विराजत,
महिमा है भारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 1 ॥

कर में डमरू त्रिशुल तिहारे,
कटी में हर वाघंबर धारे
उमा सहित हीम शैल विराजत,
शोभा है न्यारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 2 ॥

पल में प्रभु तुम प्रलयंकर,
पर प्रभो सदय उभयंकर
ऋषी मुनि भेद न पाये तिहारो,
हम तो है संसारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 3 ॥

अगम निगम तब भेद न जाने,
ब्रम्हा विष्णु सदा शिव माने
देवो के ओ महादेव अब,
रक्षा करो हमारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 4 ॥

किस विधि वंदन करू तिहारो,
औघड़दानी त्रिपुरारी
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here