भोले के कांवड़िया मस्त बड़े मत वाले हैं | Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain

भोले के कांवड़िया मस्त बड़े मत वाले हैं

चली कांवड़ियों की टोली,
सब भोले के हमजोली,
गौमुख से गंगाजल वो लाने वाले हैं ।
भोले के कांवड़िया,
मस्त बड़े मत वाले हैं ॥

सब अलग अलग शहरों से चलकर आते हैं,
कंधे पे उठा के कावड़ दौड़े जाते हैं ।
है कठिन डगर पर ये ना,
रुकने वाले हैं ॥
॥ भोले के कावड़िया…॥

कोई भांग धतूरा बेल की पत्रि लाए हैं,
कोई दूध दही मलमल के तिलक लगाए हैं ।
यह सब मस्तानी शिव के,
चाहने वाले हैं ॥
॥ भोले के कावड़िया…॥

‘नोधी’ जिद्द छोड़ो कावड़ आप उठा भी लो,
संघ ‘लव’ के शिव भोले की महिमा गा भी लो ।
‘सनी’ ‘दीपक’ भी साथ ही जाने वाले हैं ॥
॥ भोले के कावड़िया…॥

Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain

Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain

Chali Kawadiyon Ki Toli,
Sab Bhole Ke Hamajoli,
Gaumukh Se Gangajal Vo Lane Wale Hain।
Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain.

Sab Alag-Alag Shaharon Se Chalkar Ate Hain,
Kandhe Pe Utha Ke kawad Daude Jate Hain ।
Hai Kathin Dagar Par Ye Na,
Rukane Wale Hain ॥
॥ Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain॥

Koi Bhang Dhatura Bel Ke Patri Lae Hain,
Koi Doodh Dahi Mal-Mal Ke Tilak Lagae Hain ।
Hah Sab Mastani Shiv Ke,
Chahane Wale Hain ॥
॥ Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain॥

‘Nodhi’ Jidd Chodo Kawad Aap Utha Bhi Lo,
Sangh ‘Lav’ Ke Shiv Bhole Ki Mahima Ga Bhi Lo ।
‘Sunny’ ‘Deepak’ Bhi Sath Hi Jane Wale Hain ॥
॥ Bhole Ke Kawadiya Mast Bade Matwale Hain॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here